Oscars 2017: Disney’s ‘Zootopia’ wins Best Animated Film

LOS ANGELES: Animal cartoon “Zootopia,” an exploration of bias through the comedic story of a bunny who becomes a police officer, won the Academy Award on Sunday for best animated feature film.

The movie from Walt Disney Co’s Disney Animation Studios was one of year’s biggest box-office hits, selling more than $1 billion in tickets worldwide.
“Zootopia” features the voice of Ginnifer Goodwin as Judy Hopps, a rabbit who leaves her small hometown to join the big-city police force. The family film tackles social issues as the residents of the animal metropolis are divided by prejudice and fear. Jason Bateman voices the role of a conniving fox.

The social commentary of “Zootopia” arrived in theaters as the United States grappled with issues of racism, sexism and inequality during the 2016 presidential campaign.

The filmmakers started developing “Zootopia” about five years ago with “this crazy idea of talking about humanity with talking animals, in hopes when the film came out it would make the world just a slightly better place,” co-director Byron Howard said as he accepted the award.

Co-director Rich Moore said he was grateful to audiences around the world “that embraced this story of tolerance being more powerful than fear of the other.”

The Oscar win for “Zootopia” extends a renaissance for Disney Animation Studios, which took home the animation trophy in 2014 for “Frozen” and in 2015 for “Big Hero Six.” “Zootopia” was co-directed by Byron Howard and Rich Moore.

“Zootopia” competed against another Disney Animation film, the musical “Moana” about a young Pacific island heroine. Other nominees were stop-motion film “Kubo and the Two Strings,” Swiss drama “My Life as a Zucchini,” and “The Red Turtle,” a film with no dialogue, from Japan’s Studio Ghibli.

 

Source:http://economictimes.indiatimes.com

 

 

‘Mickey and the Roadster Racers’ to debut on Disney Channel India on 15 May

Mickey Mouse is making a comeback on Disney Channel India in a new avatar with a brand new show – Mickey and the Roadster Racers.

From a steamboat captain to a leader of a club, Mickey has worn many hats, but whatever the role, his quintessential positivity and upbeat spirit is omnipresent. To beat the heat this summer, the beloved character is taking the road in Mickey and the Roadster Racers.

The new series follows Mickey and his friends — Minnie Mouse, Pluto, Donald Duck, Goofy and Daisy — as their distinctive cars transform into fantastical roadster racers that take them on adventures around the world and in their mini-metropolis, Hot Dog Hills.

When it’s time for a race, Mickey’s classic sporty daily driver Toon Car transforms into the fast-moving Hot Doggin’ Hot Rod. Meanwhile on the track, Donald’s daily ride changes into the smooth-sailing, wave-making Cabin Cruiser. When it’s time to roadster-roll, Goofy’s ride transforms into Turbo-Tubster and Minnie’s classic Bow-Car transforms into a sweet ride, Pink Lightning. Daisy’s (with a soft spot for flowers), distinctive Flower Car transforms into Snapdragon, a rip-roaring, piston-popping, thundering dragster! All of the transforming vehicles in the animated series are inspired by the characters’ personalities.

The 15-episode series will be launched on 15 May from Monday to Thursday, 6 to 6:30 pm.

‘India’s animation industry has seen unprecedented growth’: Avneet Kaur

“The animation industry is definitely evolving in India. It has witnessed unprecedented growth rates in recent times,” says US-based Avneet Kaur Kaur who has lent her creative touch to “Tangled”, “Frozen” and “Zootopia”.

"The animation industry is definitely evolving in India. It has witnessed unprecedented growth rates in recent times," says US-based Avneet Kaur Kaur who has lent her creative touch to "Tangled", "Frozen" and "Zootopia".“The animation industry is definitely evolving in India. It has witnessed unprecedented growth rates in recent times,” says US-based Avneet Kaur Kaur who has lent her creative touch to “Tangled”, “Frozen” and “Zootopia”.

With global players exploring India as a talent pool for animation content and Indian filmmakers looking out for subjects with a “broad mass appeal”, there’s a huge potential for the growth of the animation world in the country, says US-based Avneet Kaur, who has lent her creative touch to Hollywood entertainers like “Tangled”, “Frozen” and “Zootopia”.

“The animation industry is definitely evolving in India. It has witnessed unprecedented growth rates in recent times,” told IANS in an email interview from Los Angeles.

Her statement is well supported by the fact that India’s animation industry generated revenues to the tune of Rs.51.1 billion in 2015, marking a growth rate of 13.8 percent, according to a FICCI-KPMG report.

Kaur, who is a simulation technical director at Walt Disney Animation Studios, said: “Over the last decade, it has seen the entry of many global studios who have tapped into India’s talent pool.

“Additionally, leading Indian production houses like Tata and Reliance are now investing in the animation market and collaborating with Indian filmmakers to make animated features that have broad mass appeal and entertain their local audiences.

“I believe that this industry has huge business potential in India and is beginning to scale new heights.”

India is said to have nearly 300 animation, 40 visual effects and 85 game development studios with over 15,000 professionals working for them, and these cater to not just the movie world but also to small screen content for children and regional platforms.

Kaur says it is Bollywood that taught her to dream big, and her love for films made her walk on the animation path to reach the world of Hollywood.

Having worked on films like “Bolt”, “Wreck-It Ralph” and “Feast”, would she want to try her hand at an animation project in Bollywood?

“May be some time in the future if the correct opportunity arises. It will be a homecoming, for my work,” said Kaur, who after spending her growing up years in New Delhi and pursuing Bachelor of Architecture (B. Arch) from the Birla Institute of Technology, India, took a foreign detour as she did her M.S. Visualisation Sciences from Texas A&M University, US.

While the cinematic world at large continues to paint a picture of India as a place with a mysterious, magical and enchanting quality, Kaur believes people in the west define India as a “strong, modern and forward-thinking nation” which is in touch with its culture and history.

“India is a potpourri of diverse cultures. Growing up in so many different cities, each with its unique and diverse traditions, our family always had more festivals and occasions to celebrate.

“Bollywood taught me to dream big, and my family and friends taught me the essence of life, and kept me grounded. I am so grateful for everything I have learnt growing up in India.”

She added that she always “loved to draw as a kid”, and her parents encouraged her passion for the arts. Then she landed in Hollywood enthused with her love for films of all kinds.

Kaur asserted: “Having a job of making movies was the best thing that could have happened to me and what better place to do this at, than Walt Disney Animation Studios. I was offered a job at this magical place in 2005, and since then this is my second home.”

She joined the team of “Zootopia”, a film which brings the world of animals alive on the silver screen, when it was in early production, and worked as a character simulation technical director on it. Her next tryst with animation is Disney’s musical adventure film “Moana”.

ऐसे भव्य बनी ‘बाहुबली 2’: फिल्म देखने के बाद भी पता नहीं चलतीं ये 12 बातें

मुंबई/हैदराबाद.भारतीय सिनेमा की अब तक की सबसे चर्चित फिल्मों में से एक बाहुबली के सेट, इसके पात्र, हथियार हर चीज के पीछे एक रोचक बात है। नयापन है। ऐसी कुछ अनसुनी बातें फिल्म में पहले दिन से जुड़े इन चार महत्वपूर्ण लोगों ने भास्कर के रोहिताश्व कृष्ण मिश्रा के साथ साझा की। पढ़िये विशेष रिपोर्ट…
-फिल्म के निर्देशक एसएस राजामौली, निर्माता शोबु यरलागड्डा, आर्ट डायरेक्टर सीबू सिरिल, कहानीकार विजयेंद्र प्रसाद बता रहे हैं ऐसी 12 बातें जो फिल्म देखने पर भी पता नहीं चलेंगी।
1. टिशू पेपर से बनाया 1000 फीट का झरना
हमने फिल्म के दोनों पार्ट में करीब 1000 फीट ऊंचाई से गिरने वाले वाटरफॉल के सीन को टिशू पेपर की मदद से शूट किया गया है। टिशू पेपर को लंबे और मीडियम साइज में काटकर झरने वाले सीन में पानी की तरह मशीन से गिराया गया था। टीम ने मशीन की फिक्व्रेंसी ऐसी सेट की थी कि टिशू पेपर बिना रुकेे लगातार पानी की तरह ही गिरता रहे। ताकि यह एकदम रियल लगे। बर्फ के बुरादे के लिए भी हमने टिशू पेपर का ही इस्तेमाल किया गया था। इसे लोगों ने खूब पसंद किया है।
-झरने की शूटिंग केरल की है। झरने का नीचे का हिस्सा असली है। ऊपर से झरना गिरने का सीन टिशू की मदद से है।
2.पैलेस की नक्काशी राजस्थान के मंदिर की
बाहुबली-2 में बना माहिष्मति किंगडम पैलेस देश में किसी भी फिल्म के लिए बनाया गया अब तक का सबसे ऊंचा पैलेस है। इसके पीछे हमारी सोच थी कि इसमें भव्यता दिखे। इसकी ऊंचाई 300 मीटर है। ये पेरिस के एफिल टॉवर के बराबर है। राजस्थान के 2 मंदिरों पर रिसर्च करने के बाद पैलेस के अंदर की नक्काशी की गई थी। यह काफी बारीक है। इसे बिल्कुल रियल लुक देने के लिए राजस्थान से पेड़, मार्बल और बुल्गारिया से रॉ मटेरियल मंगाया गया था।
-माहिष्मति पैलेस के सेट को बनाने के लिए 1900 लोगों ने 90 से 100 दिन तक लगातार काम किया।
3. धान काटने की मशीन से रथ का आइडिया
पहले भाग में हमने सिंगल ब्लेड का रथ दिखाया था। दूसरे पार्ट के लिए 4 ब्लेड का रथ बनाया। टीम को इसका विचार किसानों की धान काटने की मशीन को देखकर आया था। इसे चलाने के लिए एक लाख रु. की बुलेट खरीदी गई और उसके इंजन को रथ में फिट किया गया था। जिसे बनाने में एक माह का समय लगा था।
4.1500 सैनिक थे, युद्ध में दिखाए सवा लाख
फर्स्ट पार्ट के क्लाइमेक्स सीन में माहिष्मति के 25 हजार सैनिक दुश्मन के 1 लाख सैनिकों से लड़ते दिखाए गए हैं। ये रियल टाइम नहीं था। रियल टाइम में एक समय में 1500 से ज्यादा सैनिकों को शूट करना नामुमकिन था। यही कारण है कि इस सीन में बाकी के 1.24 लाख योद्धाओं को 3डी तकनीक से दिखाया गया। इन नकली सैनिकों को बाद में कंप्यूटर से जोड़ा गया। इसके अलावा भी युद्ध के सभी दृश्यों में हमने अधिकतम 1500 असली सैनिक ही लिए हैं।
-क्लाइमेक्स का यह सीन भारतीय सिनेमा का सबसे बड़ा क्रोमा सीन है। इसमें एल शेप का ग्रीन पर्दा इस्तेमाल हुआ।
5. 100 ट्रक मिट्‌टी डाली फिर बाहुबली मरा
बाहुबली को मारने वाले सीन की शूटिंग चंबल वैली में होनी थी। लेकिन शूट के एक हफ्ते पहले अचानक बारिश होने से वैली में घांस उग आई थी। जबकि, ये सीन प्लेन और बिना हरियाली वाली जगह में शूट करना था। फिर इसे हैदराबाद के आउटर में “क्वेरी’ में शूट किया। यहां ना रोड थी ना पहाड़। रातोरात 100 ट्रक मिट्टी गिरवाकर रोड़ बनवाई गई। 60 फीट ऊंचे नकली पहाड़ बनाकर उस पर लाल कलर का टैक्सचर पेंट किया गया। राजस्थान से पेड़ मंगाकर फाइबर ग्लास की मदद से इन पेड़ों की नकल बनाई गई।
-बाहुबली के मरने वाले सीन का सेट तैयार करने के लिए 45 दिन तक 200 लोगों ने दिन-रात काम किया।
6. हेलीकॉप्टर विंग मैटेरियल से बने हल्के हथियार
इस फिल्म के लिए हमने सांड, घोड़े, सांप आदि सभी जानवर और छोटे-बड़े हथियार हेलीकॉप्टर के विंग को बनाने वाले मैटेरियल कार्बन फाइबर से बनाए गए थे। देश में पहली बार किसी फिल्म में कार्बन फाइबर का इस्तेमाल हुआ है। फौलाद जैसे ताकतवर फाइबर का वजन हल्का होता है। युद्ध के कई दृश्यों में पचासों बार हथियार चलाना था। हथियार चलाने में हाथ दर्द ना हो और वे असली भी लगे, इसी मकसद से हमने कार्बन फाइबर का इस्तेमाल किया है।
-2000 के करीब कारिगारों ने महल, किला और अन्य सैट बनाए। 4 क्रेन सेट एक जगह से दूसरी जगह शिफ्ट करने के लिए खड़ी रहती थीं।
7. 5 साल तक शूटिंग के लिए उठना पड़ा सुबह 3.30 बजे
हम सभी क्रू मेंबर्स रोजाना सुबह 3.30 बजे उठ जाते थे। हमें 4.30 बजे लोकेशन के लिए निकलना होता था। एक घंटे के ट्रैवल के बाद सभी सेट पर पहुंचते थे। कुछ दिनों को छोड़कर बाकी सभी दिन सुबह 6-6:15 पर शूटिंग शुरू हो जाती थी। 5 साल तक हम सभी लोगों ने इसी रूटीन को फॉलो किया था। बाहुबली के दोनों पार्ट की शूटिंग 615 दिन चली थी। काम जुलाई 2013 में शुरू किया गया था और जनवरी 2017 तक चला। हमने विदेशी स्टूडियोज़ की भी मदद ली।
-30 स्टूडियो ने फिल्म में विजुअल इफेक्ट पर काम किया है। 3.5 साल का समय लगा। यूक्रेन, सर्बिया, इरान और चीन के स्टूडियो में काम हुआ।
8. ‘बाहुबली’ और ‘भगवान कृष्ण’ का ये संबंध है
ये पूरी तरह से फिक्शन मूवी है। कोई भी कैरेक्टर रियल स्टोरी से मैच नहीं करता है। हां, ये जरूर है कि मैंने बाहुबली को भगवान कृष्ण की महाभारत से इन्सपायर होकर लिखा है। बिज्जलदेव का कैरेक्टर महाभारत के शकुनि मामा जैसा है। भल्लालदेव दुर्योधन जैसा है, जिसे लगता है उसके साथ गलत हुआ है और हर हाल में साम्राज्य पाना चाहता है। महेंद्र बाहुबली कुछ-कुछ भगवान कृष्ण और भगवान राम की तरह है। कटप्पा रामायण के हनुमान की तरह है।
-चार भाषाओं में फिल्म डब की गई है। तमिल, तेलुगु, मलयालम और हिन्दी में। पार्ट 2 देश के 6500 थियेटरों में लगी है।
9. 2 मिनट के सीन की शूटिंग में लगे 100 दिन
मूवी की स्क्रिप्टिंग के दौरान हमारी सबसे बड़ी डिमांड युद्ध, मार-धाड़, लड़ाई, टेक्नोलॉजी का जबरदस्त इस्तेमाल जैसी चीजें थीं।
प्रभास के रूप में हमने मूवी का एक्टर पहले ही तय कर लिया था। बाद में उसकी पर्सनैलिटी और इन सारी जरूरतों के आधार पर स्क्रिप्टिंग के लिए कहा गया था। हमारे लिए सबसे मुश्किल लास्ट की लड़ाई को शूट करना था। 2 मिनट के सीन की शूटिंग में हमें करीब 100 दिन लग गए थे। इसमें हमने तकनीक का भी बेहतर इस्तेमाल किया है।
-10 करोड़ लोगों ने फिल्म का ट्रेलर इसके जारी हाेने के एक सप्ताह के भीतर देखा। भारत में किसी फिल्म का ट्रेलर पहले कभी इतना नहीं देखा गया।
10. बाहुबली’ के 90% सीन हैं पूरी तरह से नकली
दोनों पार्ट के 90 फीसदी सीन नकली हैं। फिर चाहे वो कटप्पा द्वारा बाहुबली को मारने वाला सीन ही क्यों न हो। फिल्म में दिखे पहाड़ से लेकर जानवर तक सभी के निर्माण में हमने तकनीक के बेहतर इस्तेमाल पर जोर दिया है। इन सीन्स को कम्प्यूटर ग्रॉफिक्स इमेज (सीजीआई) और 3डी की मदद से शूट किया गया है। अगर किसी को असली-नकली सीन्स की पहचान करनी हो तो उसे शूट का एंगल देखना चाहिए। करीब से लिए गए सभी शॉट ओरिजनल हैं।
– 20 से 25 फीट की दूरी से लिए गए सीन ही फिल्म में केवल रियल हैंं। दूर से लिए गए सभी तकनीक और सेट के कमाल से बने हैं।
11. 4 हिस्सों में बना भल्लाल का 400 किलो का स्टैच्यू
माहिष्मति किंगडम में लगे भल्लालदेव के स्टैच्यू का वजन 400 किलो है। इसे करीब 400 लोगों की हमारी टीम ने बनाया है। इसे 4 अलग-अलग हिस्सों में तैयार किया है। जिसमें करीब 1 महीने का समय लगा था। मूवी के क्रू मेंबर्स को भल्लालदेव का स्टैच्यू लगाने का आइडिया ग्रीस के कोलोस्सस ऑफ रोहड्स को देखकर आया था। ग्रीस के इस स्टैच्यू को प्राचीन संसार के 7 अजूबों में से एक माना जाता है।
Baahubali 2, Prabhas, VFX
12. क्रू मेंबर्स ने कहा, ड्रामा लाओ- तो मरा बाहुबली
बाहुबली की शुरुआती स्क्रिप्ट में कटप्पा द्वारा बाहुबली को मारे जाने का प्लान नहीं था। इस सीन की जगह कहानी कुछ और ही थी। लेकिन जब मूवी क्रू ने फिल्म में ड्रामा ऐड करने को कहा, उसके बाद ये सीन मैंने सबसे आखिरी में जोड़ा। अगर हमारी टीम द्वारा ड्रामे की डिमांड ना होती तो शायद ये सवाल वायरल ना हो पाता कि कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा…? आज ये मूवी की जान है। हमें उस समय यह उम्मीद नहीं थी कि यह इतना हिट हो जाएगा।
-30 थियेटर विदेश के भी बाहुबली 2 को रिलिज करेंगे। बाहुबली ऐसी फिल्म है जिसमें इसके कलाकारों से ज्यादा चर्चा इसके निर्देशक की है।
Source : dainikbhaskar.com

VFX की मदद से ऐसे तैयार हुए 1000 Cr कमाने वाली ‘बाहुबली 2’ के सीन्स

मुंबई/हैदराबाद.डायरेक्टर एस. एस. राजामौली की फिल्म ‘बाहुबली 2 : द कन्क्लूजन’ बॉक्स ऑफिस पर जबरदस्त कमाई कर रही है। दुनियाभर में अब तक यह करीब 1000 करोड़ रुपए का कलेक्शन कर चुकी है। फिल्म की सक्सेस का क्रेडिट डायरेक्शन, एक्टिंग, कहानी के साथ-साथ इसके विजुअल इफेक्ट्स (VFX) को भी जाता है। आर सी कमलाकन्नन हैं ‘बाहुबली 2’ के VFX सुपरवाइजर…
– बाहुबली : द बिगनिंग’ के VFX सुपरवाइजर नेशनल अवॉर्ड विनर वी. श्रीनिवास मोहन थे। जबकि फिल्म के दूसरे पार्ट के लिए यह जिम्मा आर सी कमलाकन्नन को मिला।
– इसी साल फरवरी में सोशल मीडिया पर एक पोस्ट के जरिए कमलाकन्नन ने बताया था कि फिल्म के वीएफएक्स सीन को अंजाम देने में टेक्नीशियन्स की कई टीमें जुटी हुई थीं।
– उनके मुताबिक, दुनियाभर के 33 से ज्यादा स्टूडियोज ने मिलकर VFX पर काम किया है। उनके मुताबिक, अक्टूबर 2015 में उनकी टीम ने VFX पर काम करना शुरू किया था और रिलीज के महज 10 दिन पहले पोस्ट प्रोडक्शन पूरा हो पाया।
अलग-अलग स्टूडियोज ने ऐसे किया VFX पर काम
– कमलाकन्नन के मुताबिक, हैदराबाद बेस्ड मुक्ता VFX ने माहिष्मती पैलेस और राज्य का जिम्मा संभाला। इसके लिए करीब 15% हिस्सा रामोजी फिल्म सिटी में सेट लगाकर शूट किया गया। बाकी डिजिटल एक्सटेंशन की मदद से पूरा हो पाया।
– इसी तरह कुंतल राज्य (देवसेना का राज्य) का 30-40% हिस्सा सेट के जरिए पूरा किया गया। जबकि बाकी के लिए VFX का सहारा लेना पड़ा।
– कमलाकन्नन की मानें तो फिल्म के कुछ हिस्सों पर सर्बिया और ताशकेंट (उज्बेकिस्तान) के स्टूडियोज ने काम किया है।
कमलाकन्नन ने राजामौली के साथ 2004 में की थी पहली फिल्म
– कमलाकन्नन ने राजामौली के साथ साल 2004 में पहली बार फिल्म ‘Sye’ में काम किया था।
– इसके बाद दोनों ‘Yamodonga'(2007, ‘मगधीरा’ (2009)और ‘ईगा’ (2012) के लिए साथ आए।
 VFX की मदद से ऐसे तैयार हुए 1000 Cr कमाने वाली 'बाहुबली 2' के सीन्स

VFX की मदद से ऐसे तैयार हुए 1000 Cr कमाने वाली 'बाहुबली 2' के सीन्स

VFX की मदद से ऐसे तैयार हुए 1000 Cr कमाने वाली 'बाहुबली 2' के सीन्स

VFX की मदद से ऐसे तैयार हुए 1000 Cr कमाने वाली 'बाहुबली 2' के सीन्स

VFX की मदद से ऐसे तैयार हुए 1000 Cr कमाने वाली 'बाहुबली 2' के सीन्स

VFX की मदद से ऐसे तैयार हुए 1000 Cr कमाने वाली 'बाहुबली 2' के सीन्स

VFX की मदद से ऐसे तैयार हुए 1000 Cr कमाने वाली 'बाहुबली 2' के सीन्स
Source : dainikbhaskar.com