Horizon Institute of Design (Popularly known as Arena Geeta bhawan) partners with Tata Institute (TISS) to offer Programs from School of Vocational Education(SVE) in Indore under Media & Entertainment

टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइन्सेस-एसवीई ने इंदौर में
आरंभ किए
मीडिया एंटेरटेनमेन्ट में वर्क इंटिग्रटेड डिग्री-डिप्लोमा  

    • टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइन्सेस, स्कूल ऑफ वोकेशनल एजुकेशन(टीआईएसएस-एसवीई) ने मिनिस्ट्री ऑफ एचआर व एआईसीटीई के साथ मिलकर 20 वर्टिकल चिन्हित किए व देश के प्रमुख शहरो मे आरंभ किए वर्क इंटिग्रेटेड लर्निंग प्रोग्राम्स
    • टीआईएसएस-एसवीई के कौर्सेस से छात्र अर्न व्हाइल यू लर्न कर पायेंगे
    • टीआईएसएस-एसवीई ने आरंभ किए मीडिया व एंटेरटेनमेन्ट के अंतर्गत अनेक सर्टिफिकेट/डिप्लोमा व एनिमेशन व मल्टिमीडिया जैसे क्षेत्र में बी.वॉक डिग्री
    • टीआईएसएस-एसवीई ने मुंबई के व्हिसलिंग वुड्स को मीडिया व एंटेरटेनमेन्ट का वर्टिकल एंकर व मध्य भारत के अग्रणी डिजिटल मीडिया व एनिमेशन शिक्षा प्रदाता होराइझन इन्फोटेक को ट्रेनिंग हब बनाने हेतु किया करार
    • टीआईएसएस-एसवीई के समस्त कौर्सेस यूजीसी, एआईसीटीई व मिनिस्ट्री ऑफ एचआर से मान्यता प्राप्त

     

    इंदौर । अब मध्यभारत के छात्र भी मीडिया व एंटेरटेनमेंट क्षेत्र की अनेक विधाओ में सीखते हुए जॉब कर अपना हुनर निखार सकेंगे। इस हेतु देश के 81 वर्ष पुराने टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान के वोकेशनल एजूकेशन स्कूल (टीआईएसएस-एसवीई) ने मिनिस्ट्री ऑफ एचआर व एआईसीटीई के साथ मिलकर 19 वर्टिकल चिन्हित किए हें एवं देश के प्रमुख शहरो मे क्षेत्र विशेषज्ञो से करार कर विभिन्न डिग्री व डिप्लोमा पाठ्यक्रम आरंभ किए हें।  टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान, स्कूल ऑफ वोकेशनल एजूकेशन के सभी के डिग्री कौर्सेस “वर्क इंटिग्रेटेड लर्निंग प्रोग्राम्स” के तहत हें तथा इन्हे सीखने के साथ ही छात्र इन विधाओ में क्षेत्र की प्रमुख संस्थाओ में प्रशिक्षण भी प्राप्त कर सकेंगे।

     यह जानकारी देते हुए टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान के स्कूल ऑफ वोकेशनल एजुकेशन की डीन प्रोफेसर सुश्री नीला डबीर ने बताया की इस हेतु इंदौर की अग्रणी मीडिया व मनोरंजन शिक्षा प्रदाता होराइझन इन्फोटेक  को ट्रेनिंग हब नियुक्त किया गया हें। ज्ञातव्य हें कि इंदौर के होराइझन इन्फोटेक ,को डिजिटल मीडिया एवं एनिमेशन शिक्षा में” मध्यभारत का सबसे अग्रणी एवं विश्वसनीय केंद्र माना जाता हें। इंदौर केंद्र मीडिया एवं एंटरटेनमेंट क्षेत्र में प्रशिक्षण हेतु मध्य भारत का प्रवर्तक संस्थान हें और विगत उन्नीस वर्षो से अपनी उत्कृष्टता व छात्र अनुकूल सर्विसेस के लिए प्रतिष्ठित हें।

    टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान के एसवीई द्वारा इंदौर में तीन माह से तीन वर्ष तक के रोजगारोन्मुखी कौर्सेस कराए जाएंगे । इन क्रिएटिव व स्किल आधारित प्रोग्राम्स से लाभान्वित होकर समस्त छात्र केंद्र के प्लेसमेंट सेल द्वारा जॉब के साथ ही फ्रीलांस कार्य या स्वरोजगार में लग सकते हें । बी.वॉक-एनिमेशन व मल्टिमीडिया कौर्स के अंतर्गत छात्र यदि एक वर्ष पूर्ण कर कोर्स छोड़ता हें तो उसे टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान के स्कूल ऑफ वोकेशनल एजुकेशन द्वारा डिप्लोमा मिलेगा वही दो वर्ष पूर्ण करने पर उसे एडवांस्ड डिप्लोमा प्रदान किया जाएगा । इस कोर्स के तहत छात्र एक स्किल नॉलेज पार्टनर के उपक्रम पर जाकर प्रशिक्षण अवधी के दौरान जॉब कर सकेंगे। स्किल नॉलेज पार्टनर इस हेतु उन्हे स्टायपंड भी देंगे।

    सुश्री नीला ड़बीर ने बताया की टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान, स्कूल ऑफ वोकेशनल एजुकेशन ने मिनिस्ट्री ऑफ एचआर एवं एआईसीटीई की पहल पर देश के 19 प्रमुख स्किल आधारित क्षेत्र चिन्हित किए व उन सभी में वर्टिकल प्रमुख संस्थान नियुक्त कर अब देश के प्रमुख शहरो मे इस हेतु प्रशिक्षण आरंभ किया जा रहा हें जोकि अनिवार्यतः वर्क इंटिग्रेटेड लर्निंग प्रोग्राम्स पर आधारित हें।

     मीडिया व एंटेरटेनमेन्ट के अंतर्गत टीआईएसएस-एसवीई ने मुंबई के व्हिसलिंग वुड्स को क्षेत्र का वर्टिकल एंकर बनाया गया हें। इस अवसर पर व्हिसलिंग वुड्स के श्री अनिंद्य मित्रा भी उपस्थित थे । श्री मित्रा ने बताया की व्हिसलिंग वुड्स ने मीडिया व एंटेरटेनमेन्ट में टीआईएसएस-एसवीई द्वारा संचालित लगभग 20 से अधिक कौर्सेस में प्रवेश शुरू कर दिया हें।

    इस अवसर होराइझन इन्फोटेक, इंदौर के एमडी श्री संजय खिमेसरा ने बताया की अब छात्र एनिमेशन व मल्टिमीडिया जैसे क्षेत्र में बी.वॉक डिग्री प्राप्त कर सकेंगे। साथ ही टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान, स्कूल ऑफ वोकेशनल एजुकेशन इंदौर में क्षेत्र के अनेक स्किल नॉलेज पार्टनर नियुक्त कर रहा हें जो छात्रो को क्रिएटिव हुनर पर जॉब एक्स्पोजर के साथ ही स्टाइपेन्ड़ भी देंगे ।

     टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान के बारे में- 1936 में मुंबई में स्थापित टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान की गिनती आज देश के अग्रणी संस्थानो में होती हें। संस्थान को यूजीसी ने वर्ष 1966 में यूजीसी ने डीम्ड़ यूनिवर्सिटी घोषित किया । नेक से 3.89 ग्रेड प्राप्त टीआईएसएस को यूनाइटेड नेशन ने “इंस्टीट्यूट ऑफ रेप्यूट” का दर्जा दे रखा हें।  एचआर मंत्रालय के सुझाव पर दिसम्बर 2011 में टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान ने कार्य कुशल बल बनाने में मदद करने के उद्धेश्य के साथ अपने अग्रणी प्रयास के तहत सभी महानगरो और बड़े शहरो में स्कूल ऑफ वोकेशनल एजुकेशन के शुभारंभ की घोषणा की । टीआईएसएस-एसवीई को अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) की सीड ग्रांट प्राप्त हें और यह नेशनल वोकेशनल यूनिवर्सिटी बनने की दिशा में अग्रसर हें। अधिक जानकारी के लिए https://www.sve.tiss.edu/ पर लॉग इन करे ।

     व्यावसायिक पाठ्यक्रमों में वंचित और हाशिये पर रखे गए युवा, विशेषकर जिन्हे औपचारिक स्कूली शिक्षा से बाहर रखा गया हें, के जीवन में सुधार लाने हेतु एक निश्चित दृष्टिकोण से डिज़ाइन किया गया हें। टीआईएसएस-एसवीई को एक पारिस्थितिकी तंत्र बनाने के लिए स्थापित किया गया हें जो ब्लू कोलर स्ट्रीम वर्क के लिए श्रम की गरिमा वापस लाएगा और जिसमे आय के एक स्थायी स्त्रोत का निर्माण होगा। यह देखते हुए कि मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र शहरो को बड़े पैमाने पर जोड़ता हें और इसका लक्ष्य सकल घरेलू उत्पाद में इसे जोड़ना हें। वर्तमान में मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र में सुगठित शिक्षा कि कमी हें। इन कौर्सेस में टीआईएसएस-एसवीई का लक्ष्य औपचारिक प्रशिक्षण, संचार कौशल और सॉफ्ट स्किल प्रदान करना शामिल हें ।

    व्हिसलिंग वुड्स इंटरनेशनल के बारे में-
    व्हिसलिंग वुड्स इंटरनेशनल की स्थापना वर्ष 2006 में फिल्म मेकर सुभाष घई व मुक्ता आर्ट्स ने की थी। आज व्हिसलिंग वुड्स एशिया का सबसे बढ़ा फिल्म, एनिमेशन व मीडिया संस्थान हें। हॉलीवुड रिपोर्टर ने व्हिसलिंग वुड्स को विश्व के 10 श्रेष्ठतम फिल्मों स्कूल्स में शुमार किया हें। व्हिसलिंग वुड्स का कैम्पस मुंबई फिल्म सिटी में गोरेगांव में स्थित हें और यहाँ पर एक से लेकर तीन वर्ष के फुल्ल टाइम व पार्ट टाइम कौर्सेस कराए जाते हें। टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान, स्कूल ऑफ वोकेशनल एजुकेशन ने मीडिया व एंटेरटेनमेन्ट क्षेत्र के अंतर्गत युवाओ को हुनरमंद बनाने के उद्देश्य से व्हिसलिंग वुड्स को क्षेत्र का वर्टिकल एंकर नियुक्त किया हें।

    होराइझन इन्फोटेक के बारे में-

    1997 में इंदौर में स्थापित होराइझन इन्फोटेक को अपनी गुणवत्ता के लिए 50 से अधिक अवार्ड प्राप्त हो चुके हें । इनमे मध्यभारत का सर्वश्रेष्ठ एनिमेशन एवं डिजिटल मीडिया केंद्र, ट्रेलब्लेजर्स, केप्टन्स, आइकॉन, स्टार परफॉर्मर एवं कई सामाजिक सम्मान शामिल हैं। केंद्र के एलुमनी छात्र हॉलीवूड एवं बॉलीवूड के अग्रणी फिल्म व गेम प्रोजेक्ट्स पर कार्य कर रहे हें। देश के अग्रणी स्टूडियो में कार्यरत तीन एलुम्नी छात्रो को लाइफ ऑफ पाई व गोल्डन कॉम्पास में वीएफ़एक्स के लिए ऑस्कर और दिल्ली सफारी फिल्म में एनिमेशन के लिए नेशनल अवार्ड प्राप्त हो चुका हें। एलुम्नी छात्रो के क्रेडिट्स में 100 से अधिक हॉलीवुड फिल्मे और कई एनिमेशन आधारित फिल्मे सम्मिलित हें।

    केंद्र के छात्र  प्लेसमेंट सेल की मदद से देश-विदेश की नामी-गिरामी कंपनियों में कार्यरत हें। केंद्र द्वारा प्रशिक्षित हजारो छात्र  देश के ख्यात एनिमेशन स्टूडियोज, पोस्ट-प्रॉडक्शन स्टूडियो, वेब डिज़ाइन हाउसेस, गेमिंग कंपनीज, एडवर्टाइजिंग एजेन्सीस व पब्लीकेशन, टेलीविजन चैनल, डिज़ाइन हाउस आदि में चयनित हुए  हें। केंद्र इंटर्नशिप और इंक्यूबेशन सुविधा के साथ ही नियमित तौर पर जॉब फैयर, कैम्पस रिक्रूटमेंट एवं प्लेसमेंट इंटरव्यू आयोजित करता हें।

    अधिक जानकारी के लिए संपर्क करे-
    टीआईएसएसएसवीई / व्हिसलिंग वुड्स इंटरनेशनल अथवा होराइझन इन्फोटेक पर संपर्क करे

Advertisement

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s